यूं हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं कभी सबा को, कभी नामाबर को देखते हैं | मिर्जा गालिब की शायरी 2022.

  मिर्जा गालिब की शायरी 2022. मिर्जा गालिब की शायरी 2022. यूं हम जो हिज्र में दीवार-ओ-दर को देखते हैं …

Read more

x