Bana Gayi Teri Kafir Nazar Mujhe

  उठती नहीं है आँख किसी और की तरफ,    पाबन्द कर गयी है किसी की नजर मुझे,     ईमान …

Read more

x